मानसिक क्षमता के अनुसार मिलेगा विमंदित बच्चों को कौशल प्रशिक्षण -सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री

जयपुर, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ.अरूण चतुर्वेदी एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जे.सी.महान्ति सहित विशेष योग्यजन निदेशक व अन्य अधिकारियों ने सोमवार 1 जनवरी 2018 के नये साल का पहला दिन जामडोली स्थित मानसिक विमंदित गृह में रह रहे मानसिक विमंदित बच्चों के बीच मनाकर उनका उत्साह बढाया।

डॉ.चतुर्वेदी एवं श्री महान्ति ने सोमवार को जामडोली में स्थित राजकीय विमंदित प्रशिक्षण गृह एवं मानसिक विशेष विद्यालय की व्यवस्था का जायजा लेने के दौरान बच्चों के साथ घुल-मिल कर उनके सुख-दुख बांटे और दिये जा रहे प्रशिक्षण कार्य एवं शिक्षा कार्य को नजदीक से देखा। डॉ.चतुर्वेदी ने मानसिक विमंदित बच्चों को विभिन्न तरह के दिये जा रहे प्रशिक्षण एवं शिक्षा व्यवस्था की जानकारी लेते हुये उनके कमरों में पहुंचकर बच्चों से बात की तथा उनके पहाडे़, एबीसीडी, गिनती, जोड़-बाकी, पेन्टिंग, सिलाई एवं चित्रकारी कार्य देखा। उन्होनें विमंदित बच्चों के द्वारा गिनती सुनाने व एबीसीडी बोलने पर बच्चों की पीठ थपथपाकर उनका उत्साह बढाया।

राजकीय विमंदित विद्यालय में 100 विमंदित बच्चों को विभिन्न तरह का प्रशिक्षण एवं शिक्षा देने का विशेष प्रयास किया जा रहा है। इसके लिये 13 से अधिक विशेष अध्यापकों को नियुक्त किया गया है।

डॉ.चतुर्वेदी ने विमंदित गृह के अधिकारियों को बच्चों की मानसिक क्षमता के अनुसार कौशल विकास प्रशिक्षण एवं शिक्षा देने की कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिये। डॉ.चतुर्वेदी ने एक बच्चे को सुई-धागे से सिलाई करते हुये बडी गम्भीरता से देखा और उत्साह बढाया।

इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जे.सी.महान्ति ने बच्चों के रहने, खाने-पीने, चिकित्सा व्यवस्था एवं साफ-सफाई आदि व्यवस्था का जायजा लेते हुये निर्देश दिये कि सभी को मिलकर इन बेसहारा एवं असहाय बच्चों की मन से सेवा करना है। उन्होंने कहा कि इन बच्चों को उनकी मानसिक क्षमता के अनुसार शिक्षा एवं प्रशिक्षण की व्यवस्था को और अधिक कारगार बनाना है। श्री महान्ति विमंदित बच्चों से हाथ मिलाकर उनका उत्साह बढा रहे थे वहीं बच्चे भी नया साल मनाने के लिये रोमांचित हो रहे थे। अधिकारियों ने बच्चों द्वारा बनाये गये ग्रिटिंग कार्ड भी 50-50 रूपये में खरीदे।

विमंदित बच्चों की बनेगी मेडिकल हिस्ट्री

इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जे.सी. महान्ति ने अधिकारियों को विमंदित गृह के प्रत्येक बच्चे की मेडिकल हिस्ट्री बनाने के निर्देश दिये। उन्होने विमंदित गृह में कार्यरत मेडिकल टीम को कहा कि प्रत्येक बच्चे की बीमारी, उपचार एवं दी जा रही दवाईयों का पूरा रिर्काड संधारण करें।

बच्चों के दांतो का होगा पूरा उपचार

अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जे.सी. महान्ति ने विशेष योग्यन विभाग एवं विमंदित गृह के अधिकारियों को विमंदित बच्चों के दांतो का विशेष उपचार करने के निर्देश दिये। उन्होने इस कार्य के लिये सामाजिक संस्थाओं का सहयोग लेने पर जोर दिया।

मंत्री एवं एसीएस ने बच्चों को हाथों से खिलाया खाना

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. अरूण चतुर्वेदी एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जे.सी.महान्ति ने विमंदित गृह के मानसिक विमंदित बच्चों का खाना परोसी करने के साथ-साथ कई बच्चों की मनुहार कर हाथों से खाना खिलाया, वहीं सभी अधिकारियों ने बच्चों के साथ बैठकर खाना भी खाया।

स्टाफ के साथ फोटो खिंचवाकर बढाया उत्साह

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ.अरूण चतुर्वेदी एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जे.सी.महान्ति एवं निदेशक श्रीमती अनुपमा जोरवाल ने विमंदित बच्चों की सेवा में लगे विमंदित गृह के स्टाफ के साथ फोटो खिंचवाकर उत्साह बएाया। श्री महान्ति ने कहा कि ऎसे बच्चों की सेवा करना बडा पुण्य का कार्य है जो आप लोग कर रहे हो। उन्होने बच्चों के रहने के लिये लगे पलंगों व शौचालय की साफ-सफाई व्यवस्था की सराहना की।