जयपुर, दिसंबर 07, 2021.

मौसमी बीमारियो के प्रकोप के बीच अब गुलियन बेरी सिंड्रोम (जीबीएस) ने भी चिंता बढ़ा दी है । अचानक हाथ-पैर सुन्न रहने की शिकायतें मिल रही है ।

मौसम में बदलाव के चलते डेंगू , वायरल फीवर, चिकनगुनिया कहर ढ़ा रहे है । सामने आया है कि इन बीमारियों में कोई न कोई वायरस शरीर में रह जाता है । ऐसे में कई मरीजों में जीबीएस का प्रकोप देखा जा रहा है ।

विशेषज्ञों के मुताबिक शरीर में वायरस या कीटाणु के प्रवेश पर इम्युनिटी उससे लड़ती है । जीबीएस के मरीजों में शरीर की इम्युनिटी सीधे तंत्रिका तंत्र से जुडी नसों को प्रभावित करती है, जो मस्तिष्क से लेकर रीढ़ तक फैली रहती है ।

ऐसा वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण के बाद इम्यून सिस्टम अत्यधिक सक्रिय होने से होता है । इससे अचानक हाथ, पैर रह जाने , सांस लेने में दिक्कत या बोलने व निगलने में परेशानी होती है । इसे नसों का लकवा भी कहा जाता है ।