Published On: Fri, Jan 7th, 2022

गारमेंट एक्सपोर्टर्स का आरओएससीटीएल योजना के पुनरीक्षण का आग्रह

जयपुर, 07 जनवरी, 2022.

गारमेंट एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान ने आरओएससीटीएल योजना का पुनरीक्षण करने की केन्द्र से मांग की है। इन कारोबारियों का कहना है कि आरओएससीटीएल स्क्रिप्स आपूर्ति और मांग के बीच बढ़ते बेमेल के साथ, आरओएससीटीएल पर प्रीमियम काफी हद तक 80 फीसदी से कम हो गया है जिसके परिणामस्वरूप निर्यातकों को आरओएससीटीएल लाभ में अनपेक्षित कमी आई है। इस प्रकार की प्रतिक्रियात्मक बाधाओं को दूर करने के लिए प्रदेश के परिधान निर्यातकों ने आरओएससीटीएल योजना का बेहतर उपयोग करने के तरीकों पर गत 07 दिसम्बर को एक पत्र विदेश व्यापार महानिदेशालय सहित अन्य अधिकारियो को लिखा था।

इस बारे में गारमेंट एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान के अध्यक्ष विमल शाह ने बताया साल 2019 में, कपड़ा मंत्रालय ने राज्य और केंद्रीय करों और लेवी की छूट के नाम से एक नई योजना को अधिसूचित किया था। इस योजना के तहत, निर्यातकों को निर्यात किए गए उत्पाद में निहित करों और लेवी के मूल्य के लिए एक ड्यूटी क्रेडिट स्क्रिप जारी की जाती है। आरओएससीटीएल के शुभारंभ के ठीक एक वर्ष पश्चात कोविड-19 महामारी प्रारंभ हो गई और यह महसूस किया गया कि निर्यातकों के लिए कुछ स्थिर नीति व्यवस्था प्रदान करने की आवश्यकता है। कपड़ा उद्योग में, खरीदार लम्बी अवधि के ऑर्डर देते हैं और निर्यातकों को अपनी गतिविधियों को पहले से ही चाक-चौबंद करना पड़ता है, यह महत्वपूर्ण है कि इन उत्पादों के निर्यात के संबंध में नीति व्यवस्था स्थिर हो।

वर्तमान में, आयात पर आईजीएसटी के भुगतान के लिए आरओएससीटीएल  स्क्रिप का उपयोग नहीं किया जा सकता है। वर्तमान में इसकी अनुमति केवल मूल सीमा शुल्क के भुगतान के लिए है। यह प्रस्तावित है कि आईजीएसटी के भुगतान के लिए भी आरओएससीटीएल स्क्रिप की अनुमति दी जा सकती है। इसका सरकार के लिए कोई राजस्व निहितार्थ नहीं होगा क्योंकि आरओएससीटीएल क्रेडिट राशि उपयोग के मकसद के लिए समान रहेगी। यह विकल्प निर्यातकों को आरओएससीटीएल स्क्रिप का बेहतर उपयोग करने में मदद करेगा। निर्यातकों को पूर्ण मूल्य आरओएससीटीएल स्क्रिप क्रेडिट प्राप्त करना चाहिए जैसा कि इसका इरादा है।

उन्होंने बताया गत 12 दिसम्बर 2021 को आपकी स्वयं द्वारा की गई बैठक के दौरान इस मामले को उठाया गया था, जहां आप इस सुझाव पर विचार करने के लिए बहुत ही सहमत हुए थे और चाहते थे कि इस मुद्दे पर एक नोट तैयार किया जाए ताकि इस मामले को राजस्व विभाग, मंत्रालय के साथ उठाया जा सके।

गारमेंट एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान के जनरल सेक्रेटरी आशीष आहूजा ने बताया कि पीक सीजन चल रहा है और वर्किंग कैपिटल की बढ़ती आवश्यकता के साथ, आरओएससीटीएल स्क्रिप के उपयोग के दायरे में प्रस्तावित विस्तार निर्यातकों के लिए एक बड़ी राहत होगी क्योंकि रिफण्उ मूल्य में सुधार होगा, वह भी बिना किसी प्रक्रियात्मक जटिलताओं या सरकारी खजाने की अतिरिक्त लागत के।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Live Updates COVID-19 CASES