जयपुर, अप्रैल 02, 2022.

रूस के साथ अपने रिश्तों को तोड़ने को लेकर अमेरिका व पश्चिमी देशों की तरफ से पड़ रहे दबाव के बीच भारत ने शुक्रवार को एक बार फिर अपनी मंशा साफ कर दी कि वह अपने हितों के हिसाब से ही फैसला करेगा। भारत की यात्रा पर आए रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की पीएम नरेन्द्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से अलग-अलग मुलाकात हुई जिसमें यूक्रेन के हालात के साथ ही द्विपक्षीय रिश्तों के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर बात हुई।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत यूक्रेन में संघर्ष को सुलझाने के लिए शांति प्रयासों में किसी भी तरह से मदद करने को तैयार है। हाल के दिनों में भारत के दौरे पर आने वाले किसी विदेश मंत्री से पहली बार पीएम मोदी ने मुलाकात की है। पीएम मोदी के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल भी इस मुलाकात के दौरान उपस्थित थे।

इससे पहले, विदेश मंत्री जयशंकर के साथ प्रतिनिधि स्तर की लंबी बातचीत के बाद लावरोव ने कहा कि भारत अंतरराष्ट्रीय मसलों पर न्यायसंगत राय रखता है। वह महत्वपूर्ण देश और रूस-यूक्रेन के बीच शांति स्थापना में मध्यस्थ की भूमिका निभा सकता है।