जयपुर, जून 13, 2022.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को हिरासत कर लिया गया है। उनको दिल्ली पुलिस ने जबरन कब्जे में लिया और उसके बाद बस में डालकर अपने साथ ले गई। पुलिस ने अशोक गहलोत समेत कई अन्य नेताओं को भी हिरासत किया है। इस घटनाक्रम के बाद सोशल मीडिया पर माहौल गर्म हो गया है। पूरा घटनाक्रम दिल्ली में हुआ है। सीएम समेत अन्य कई नेताओं ने दिल्ली पुलिस की इस जबरदस्ती पर सवाल खडे किए हैं।

गहलोत ने दिल्ली पुलिस से कहा- पांच लोगों को जाने देने से क्या फर्क पड़ेगा? आपकी अंतरात्मा भी हमारी तरह ही है, हमें जाने दीजिए। दिल्ली पुलिस ने बैरिकेडिंग करके रास्ता बंद कर दिया था। गहलोत और कांग्रेस नेताओं की बहस के बावजूद उन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया।

कांग्रेसी नेताओं ने दिल्ली पुलिस के अफसरों से इस बात पर भी आपत्ति की कि एक राज्य के मुख्यमंत्री से इस तरह का व्यवहार ठीक नहीं है। गहलोत के साथ मल्लिकार्जुन खड़गे, जयराम रमेश, मुकुल वासनिक, दिग्विजय सिंह, दीपेंद्र हुड्डा, पवन खेड़ा, पीएल पूनिया, गौरव गोगोई, मीनाक्षी नटराजन सहित कई नेताओं को गिरफ्त में लिया गया है।

हिरासत में लेने के बाद गहलोत ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। कहा- आज जिस तरह कांग्रेस पार्टी के शांतिपूर्ण मार्च को रोका जा रहा है, यह तानाशाही पूरा देश देख रहा है। कांग्रेस मुख्यालय की घेराबंदी कर दी गई है, चारों तरफ पुलिस लगा दी गई है। नेता-कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया जा रहा है।