Published On: Thu, Jun 24th, 2021

संत कबीरदास जयंती 2021

जयपुर, जून 2021.

संत कबीरदास भक्तिकाल के महान कवि रहे हैं, जो जीवन समाज को सुधारने के लिए समर्पित रहे हैं। कबीरदास को कर्म प्रधान कवि भी कहा गया है, उनका नाम हिंदी साहित्य में उत्तम योगदान के लिए भी रहा है। कबीर की रचनाएं बहुत खूबसूरत और सजीव हैं जिनमें समाज की झलकियों को दर्शाया गया है। वह कवि होने के साथ समाज कल्याण और समाज हित के काम में भी व्यस्त रहते थे।

उनकी उदारता के लिए उन्हें संत की उपाधि भी दी गई थी। वह भारतीय मनीषा के पहले विद्रोही संत थे, उन्होंने अंधविश्वास और अंधश्रद्धा के खिलाफ अपनी आवाज उठाई थी।

उन्होंने अपने जीवन में कई सुंदर, अद्भुत और मधुर महाकाव्यों की रचना की है। संत कबीरदास का जन्म मुस्लिम परिवार में संवत 1455 में हुआ था, वह जात-पात में विश्वास नहीं रखते थे। वैसे तो संत कबीरदास के जन्म का प्रमाण नहीं मिलता है लेकिन कहा जाता है कि जिस दिन संत कबीरदास का जन्म हुआ था उस दिन ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा थी। संत कबीरदास की जन्मतिथि को कबीरदास जयंती के नाम से जाना जाता है।

Live Updates COVID-19 CASES