संवहनीय भविष्य की ओर निरंतर प्रगतिशील है इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड

जयपुर, 4 जून 2021.

भारतीय आतिथ्य उद्योग की अग्रणी और दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी हॉस्पिटैलिटी कंपनी इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड संवहनीय व्यापारिक विधियों को अपनाने और उन्हें पुख्ता करने की मुहिम को जारी रखे हुए है। सिंगल यूज़ प्लास्टिक के इस्तेमाल को बंद करने, कार्बन फुटप्रिंट घटाने, जल संरक्षण और ऊर्जा के नवीकरणीय स्त्रोतों के उपयोग तथा समाज को इस सब में शामिल करने तक आईएचसीएल हर कदम पर जिम्मेदार पर्यटन को आगे बढ़ाना जारी रखेगी।

कंपनी के 47 होटल अर्थचैक प्लैटिनम सर्टिफिकेशन हासिल कर चुके हैं। यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि है जो इसलिए हासिल हो सकी क्योंकि कंपनी पिछले 11 वर्षों से संवहनीय पर्यटन प्रबंधन करते हुए निरंतर सामाजिक एवं पर्यावरणीय पहलुओं पर काम करती आ रही है। कुल 78 अर्थचैक सर्टिफाइड आईएचसीएल होटलों ने 2008 से अब तक निम्नलिखित महत्वपूर्ण बचत की हैं-

  • पानी का खपत को 30,00,000 किलो लीटर तक घटाना
  • ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन घटाना जिसमें लगभग 23,20,00,000 किलोग्राम कार्बन डाइऑक्साइड भी शामिल थी
  • ऊर्जा के 1,20,20,00,000 मेगा जौल्स की बचत
  • लैंडफिल में भेजा जाने वाला कचरा 17,000 क्यूबिक मीटर घटाया

कंपनी ने अपने प्रयास को और अधिक मजबूती देते हुए सभी होटलों में सिंगल यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल खत्म किया, इसके अलावा दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अपने 15 होटलों में बॉटलिंग प्लांट लगाए जिसके बाद सभी प्लास्टिक बोतलों की जगह पुनः इस्तेमाल की जा सकने वाली कांच की बोतलें उपयोग की जाएंगी, 27 होटलों में नवीकरणीय ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाता है और इस पहल को इसलिए भी बल मिला क्योंकी आईएचसीएल ने हाल ही में टाटा पावर से सहभागिता की है ताकि मुंबई में कंपनी के प्रमुख होटलों में टाटा पावर के ग्रीन सोर्स से ऊर्जा पहुंचाई जाए।

उत्कृष्टता हासिल करने के प्रयासों और पर्यटन उद्योग में बेंचमार्क बनाने के लिए आईएचसीएल हरे भरे भविष्य के लिए संवहनीय तरीकों की अग्रदूत बनी रहेगी।

Related Articles

Live Updates COVID-19 CASES